Tuesday, September 29, 2009

पाइल्स का इलाज

piles ka ilaaj,पाइल्स का इलाज,हिंदी अपनी मातृभाषा,hindi apni matrabhasha, matrabhasha,hindi, piles,hindi apni matrabhasha, hindi, matrabhasha
इंजेक्शन [स्केलेरोथैरेपी], रबड़ बैंड लाइगेशन, क्रायोसर्जरी [ठंडी मशीन से], सर्जरी [हेमोरॉइडेक्टॉमी], टीएचडी

(ट्रांस हेमोरॉयडल डीआरटराइजेशन)।

दर्द रहित उपचार की यह तकनीक सभी ग्रेड के लिए उपयुक्त है। इससे उपचार के बाद पाइल्स पुन: होने की संभावना लगभग समाप्त हो जाती है। डायबिटीज, ह्वदय रोगी, श्वास रोगियों और वृद्ध मरीजों के लिए सर्वाधिक सुरक्षित विधि है। गुदा मार्ग में 6 धमनियां होती हैं, जो मस्सों के गुच्छों को खून सप्लाई करती है। ये धमनियां गुदा मार्ग के म्यूकोसा के अंदर होती है। एक विशेष पेननुमा यंत्र द्वारा इनकी स्थिति मालूम कर इन्हें बांध दिया जाता है। मस्सों का खून का दौरा पूर्ण रू प से बंद हो जाता है और उम्र भर के लिए पाइल्स समाप्त हो जाते हैं। इस तकनीक से उपचार के लिए सामान्यतया भर्ती की जरू रत नहीं होती और मरीज अगले दिन काम पर जा सकता है। उपचार में काम आने वाले औजार एक बार ही उपयोग किए जाते हैं। इस कारण अन्य उपचार तरीकों से यह तकनीक महंगी है, परंतु उम्र भर के लिए मस्सों से छुटकारा मिल जाता है


EARN MONEY ON YOUMINT




No comments:

Post a Comment